यही हैं प्रयास मानवगुरु का

हमारे संतुष्ट ग्राहक

अखिला आयुब खान

समाजसेविका, कर्नाटक

हमने एक नया घर बनाया था लेकिन नए घर में जाने के बाद, हमें बहुत सारी समस्याओं का सामना करना पड़ा। हमारी आर्थिक स्थिति खराब हो गई। जो हम चाहते थे या जो घर में आवश्यक था वह कुछ भी हम नहीं खरीद सकते थे। यहां तक कि जब हमें छोटी-छोटी जरूरतमंद चीजोंकों खरीदना होता था, तो हमें एक कठिन निर्णय लेने की प्रक्रिया से गुजरना पड़ता था। लोग सोचते थे कि हमने घर बनाया तो हम आर्थिक रूप से स्थिर थे, इसलिए वे आकर मदद मांगने आते थे। लेकिन उन्हें हमारी हालत के बारे में बताना बहुत मुश्किल था।

मैंने ऋण लिया और छोटे स्तर के व्यवसाय के लिए भागीदार बन गयी लेकिन इससे हमें कोई लाभ नहीं हुआ। जल्द ही तनाव और परेशानी हमारे व्यक्तिगत जीवन में दिखाई देने लगी और मैं और मेरे पति के बीच लगातार झगड़े होने शुरू हो गए। स्थिति इतनी खराब हो गई कि हमें खाना तक नसीब नहीं होता था। ऐसे दिन थे जब हम बस एक गिलास पानी पीकर, खाली पेट सोते थे। मैं हर रात हमारी स्थिति के बारे में सोचकर रोया करती थी ।

हमें नहीं पता था कि इस स्थिति से कैसे बाहर आना है। ऐसा लग रहा था जैसे समस्याएं हर राह में हमारा इंतजार कर रही थीं। हम इतने उदास हो गए कि हम सोचने लगे कि ईश्वर ने हमें यह कष्टों का जीवन क्यों दिया है। ऐसे समय थे जब हमें लगा की आत्महत्या के सिवा हमारे पास कोई चारा नहीं था।
फिर एक दिन हमें मानवगुरु के अनन्य ज्ञान के बारे में पता चला। किसी तरह हमने महसूस किया कि यह एकमात्र रास्ता है जो हमें अपनी परेशानियों से छुटकारा पाने में मदद करेगा। हमने तुरंत मानव गुरु के मार्गदर्शन का पालन करने का फैसला किया। हम मानव गुरु से प्रेरित थे और हमारे जीवन में आशा की भावना जाग गयी।

हमने मानवगुरु के अनन्य ज्ञान को अपनाना शुरू किया। मानवगुरु के अनन्य ज्ञान को अपनाने के बाद, हमने अपने जीवन में परिवर्तन का अनुभव करना शुरू किया। हमारी आर्थिक समस्याएं हल हो गईं। हमने एक छोटे पैमाने पर व्यवसाय शुरू किया और वह एक बड़ी सफलता बन गई और फिर हमने 3 और व्यवसाय शुरू किए और हमारे सभी व्यवसाय आज अधिक लाभ कमा रहे हैं।

हमारे पास कभी भी एक कार नहीं था लेकिन आज हमने एक अपनी खुदकी कार खरीदी है। मेरा सामाजिक कार्य भी राष्ट्रीय स्तर पर पहुँच गया है और मुझे बहुत सारे पुरस्कार और सम्मान मिले हैं। अर्जित मुनाफे से हम न केवल अपना घर चलाते हैं बल्कि जरूरतमंद लोगों की मदद भी करते हैं। यह हमें अन्य लोगों की मदद करने की अपार खुशी देता है और यह केवल मानव गुरु के अनन्य ज्ञान के कारण ही संभव हो सका।

मानव गुरु के अनन्य ज्ञान की मदद से, मानव गुरु दुनिया के हर परिवार को विश्व शक्ति से संपर्क करके देते है। जब एक व्यक्ति विश्व शक्ति के संपर्क में आ जाता है, तब उसने जीवन में जो भी चाहा होता है वो सब उसे प्राप्त होता है। यह मानव गुरु के अनन्य ज्ञान की विशिष्टता है।

मानव गुरु का अनन्य ज्ञान किसी भी धर्म या जाति पर आधारित नहीं है। मैं एक मुसलमान होने के बावजूद मानव गुरु के मार्गदर्शन का पालन किया है और मैं आपको विश्वास दिला सकती हूं की, यह मानव गुरु का अनन्य ज्ञान दुनिया में हर परिवार द्वारा अपनाया जा सकता है, भले ही वह किसी भी धर्म, जाती या दर्जा के क्यों न हो। मैं आशा करती हूँ की हर परिवार मानव गुरु के अनन्य ज्ञान को अपनाना चाहिए और एक आनंदमय जीवन का अनुभव करना चाहिए। धन्यवाद गुरुजी, हमारी जरूरत के समय में हमारी मदद करने के लिए।

संपर्क करें